ब्रज क्षेत्र की विरासत को सजोतें हुए,इसे विकास की नई ऊंचाईयों तक पहुचायेंगे- मुख्यमंत्री

मथुरा – उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज ब्रज क्षेत्र के दौरे पर मथुरा पहुंचे जहा उन्होंने कई योजनाओ की आधारशिला रखी, इस मौके पर उन्होंने कहा की इस क्षेत्र की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत को बनाए रखते हुए इस क्षेत्र को सर्वांगीण विकास की नई ऊंचाईयों तक पहुंचाया जाएगा।

मुख्यमंत्री आज कुम्भ पूर्व वैष्णव बैठक वृन्दावन 2021 के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर जनपद मथुरा की 411 करोड़ रुपए की 95 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि कोविड प्रबन्धन के साथ-साथ अन्य सभी विकास कार्यक्रमों को मजबूती से आगे बढ़ाया जा रहा है, पर उन्होंने कहा की 12 वर्ष के बाद कुम्भ का अवसर आता है। उसी भावना के अनुरूप कुम्भ पूर्व वैष्णव वृन्दावन 2021 पूरी दिव्यता और भव्यता के साथ आगे बढ़ना चाहिए, जैसा दिव्य और भव्य प्रयागराज कुम्भ का आयोजन हुआ था। उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर पूज्य संतों के सान्निध्य से एक कार्ययोजना बनायी गयी। यह कार्ययोजना कुम्भ के स्वरूप, भव्यता और दिव्यता के साथ आयोजित की जा सकती है। यह आस्था का सम्मान है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ब्रज क्षेत्र की भूमि पवित्र भूमि है। श्रीकृष्ण बांके बिहारी और राधा रानी की इस भूमि पर अपार कृपा रही है। उस अपार कृपा का ही परिणाम है कि हम सब इतनी भव्यता और दिव्यता के साथ वृन्वादन के इस कुम्भ पूर्व वैष्णव आयोजन को एक नई ऊंचाई की ओर अग्रसर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब उनके समक्ष कुम्भ पूर्व वैष्णव वृन्दावन 2021 आयोजित होने का प्रस्ताव आया, तब पूरा देश और पूरी दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना से त्रस्त थी। लेकिन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व और मार्गदर्शन में पूरे देश में कोरोना के खिलाफ मजबूती से संघर्ष करते हुए इस लड़ाई को जीता गया। बेहतर कोरोना प्रबन्धन के साथ ही भारत विश्व का एक मात्र ऐसा देश है, जिसने 02 स्वदेशी वैक्सीन के माध्यम से देशवासियों और भारत और अन्य देशों के नागरिकों को बचाने के लिए कोरोना वैक्सीन उपलब्ध करायी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रयागराज कुम्भ-2019 ने एक मानक बनाया। पूज्य संतों के सानिध्य में कार्यक्रम को आगे बढ़ाया गया और प्रयागराज कुम्भ ने सुरक्षा, सुव्यवस्था और स्वच्छता का मानक तय किया। यूनेस्को ने भी प्रयागराज कुम्भ को ‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर’ बताया। उन्होंने ब्रज क्षेत्र की समृद्ध परम्परा की चर्चा करते हुए कहा कि जितनी प्राचीन और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत इस क्षेत्र की है, वह किसी के पास नहीं है। इस अवसर पर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्री श्रीकांत शर्मा, दुग्ध विकास मंत्री श्री लक्ष्मीनारायण चौधरी, जलशक्ति मंत्री डॉ0 महेंद्र सिंह, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री डॉ0 नीलकंठ तिवारी, सांसद श्रीमती हेमा मालिनी, उ0प्र0 ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष श्री शैलजाकांत मिश्र उपस्थित रहे

Share This