UP BUDGET – योगी सरकार पेश किया अब तक का सबसे बड़ा बजट,एक्‍सप्रेस-वे पर फोकस

लखनऊ – उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने इस कार्यकाल का अंतिम पूर्ण बजट विधानसभा में पेश किया। वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने यूपी के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा 5,50,270 करोड़ रुपये का बजट पेश किया। पत्रकार वार्ता में मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने वित्‍त मंत्री को बधाई देते हुए कहा कि यह समग्र और समावेशी बजट है, यह बजट युवाओं, किसानों व महिलाओं पर केंद्रित है।

मुख्यमंत्री ने बजट की खूबियों को बताते हुए कहा की इस बजट में सभी वर्गों के लिए प्रावधान किए गए हैं। यह बजट अगले साल होने वाले विधान सभा के चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए लाया गया है,इसमें प्रदेश में हवाई अड्डों का जाल बिछाने और एक्‍सप्रेस-वे के काम में तेजी लाने के लिए करोड़ों रुपयों की योजनाओं के प्रावधान किए गए हैं। इसके साथ पूर्वांचल की विशेष योजनाओं के लिए 300 करोड़ तो बुंदेलखंड के लिए 210 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

इस बजट में वित्त मंत्री ने अयोध्‍या को चमकाने के लिए 140 करोड़ का ऐलान किया। इसके साथ ही कोरोना टीके के लिए भी 50 करोड़ का प्रावधान किया गया। वित्‍त मंत्री ने कहा कि राम मंदिर तक पहुंच मार्ग के लिए 300 करोड़ से अधिक राशि दी गई है। प्रदेश के कलाकारों को यूपी गौरव सम्मान दिया जाएगा। इसके लिए 11 लाख रुपये की राशि दी जाएगी। सुरेश खन्ना ने ऐलान किया कि अयोध्या-वाराणसी में पर्यटन विकास के लिए 100-100 करोड़ रुपये दिए जाएंगे। वित्त मंत्री ने कहा कि जेवर एयरपोर्ट के पास एक इलेक्ट्रॉनिक सिटी बनाई जाएगी। प्रदेश में अलग-अलग जगहों पर आईटी पार्क बनाए जा रहे हैं। यूपी में कक्षा एक से आठ तक मुफ्त ड्रेस देने का काम किया जा रहा है।

वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि गोवंश के सरंक्षण के लिए योजना चलाई जा रही है, अलग-अलग जगह पर गोशाला बनाई गई हैं। इसे आगे बढ़ाया जाएगा और अलग-अलग जगहों पर आश्रय स्थलों की संख्या को बढ़ाई जाएगी। सरकार ने दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल के लिए 1326 करोड़ रुपये प्रस्तावित किया है। इसके अलावा गोरखपुर-वाराणसी मेट्रो के लिए 100-100 करोड़ रुपये दिए गए हैं।

सुरेश खन्ना ने कहा कानपुर मेट्रो रेल परियोजना की अनुमोदित लागत 11,076 करोड़ रूपये है। वित्तीय वर्ष 2021-2022 के बजट में परियोजना हेतु 597 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है। कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के प्राथमिक सेक्शन आईआईटी कानपुर से मोतीझील पर ट्रायल रन प्रारम्भ करने की लक्षित तिथि है।

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशनल एयरपोर्ट्स की संख्या 4 से बढ़कर 7 हो गई। जनपद अयोध्या में निर्माणाधीन एयरपोर्ट का नाम मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम हवाई अड्डा अयोध्या होगा इस हेतु 101 करोड़ रुपये की बजट व्यवस्था प्रस्तावित। जेवर एयरपोर्ट में हवाई पट्टियों की संख्या दो से बढ़ाकर छह करने का निर्णय लिया गया है। इस परियोजना हेतु 2000 करोड़ रुपये की बजट व्यवस्था प्रस्तावित है। कुशीनगर एयरपोर्ट को केन्द्र सरकार द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट घोषित है। इस प्रकार राज्य में शीघ्र ही 4 अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट लखनऊ, वाराणसी, कुशीनगर व गौतमबुद्धनगर में होंगे। अलीगढ़, आजमगढ़, मुरादाबाद व श्रावस्ती एयरपोर्ट का विकास लगभग पूर्ण हो गया है तथा चित्रकूट तथा सोनभद्र एयरपोर्ट मार्च, 2021 तक पूर्ण होंगे।

अयोध्या स्थित सूर्यकुण्ड के विकास सहित अयोध्या नगरी के सर्वांगीण विकास की योजना हेतु वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट 140 करोड़ रुपये की व्यवस्था का प्रस्ताव। लखनऊ में राष्ट्रीय प्रेरणा स्थल के निर्माण हेतु 50 करोड़ रुपये की व्यवस्था प्रस्तावित।

उत्तर प्रदेश में स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था की जा रही है। पेयजल योजना के लिए 15000 करोड रुपए के बजट की व्यवस्था। 2022 तक शहर और गांवों के घर-घर तक नल से पानी पहुंचाया जाएगा। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने ऐलान किया कि कोरोना टीकाकरण के लिए 50 करोड़ रुपये प्रस्तावित हैं, जबकि आयुष्मान भारत के लिए 13 करोड़ रुपये प्रस्तावित हैं। प्रदेश के पीपीपी मॉडल से मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं।

Share This