COVID-19: भारत ने करि तैयारी,नहीं होगी वैक्सीन की कमी

नई दिल्ली – कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक होती दिखाई दे रही है,हालांकि इससे निपटने के लिए भारत सरकार भी पूरी तरह से तैयार दिख रही है,देश में वैक्सीन की कमी को पूरा करने के लिए जिन वैक्सीन्स को दुनिया के किसी भी देश की सरकारी एजेंसी ने अप्रूवल दे रखा है, इन सबको भारत भी मंजूरी देगा।

भारत के इस फैसले से माडर्ना, फाइजर, जॉनसन एंड जॉनसन जैसी वैक्सीन को मंजूरी की प्रक्रिया तेज होगी और दवा कंपनियों के लिए विदेशी वैक्सीन को भारत में बनाने की मंजूरी लेने में भी आसानी होगी। सरकार ने अपने आदेश में जिन संस्थाओं का नाम लिया है, वे अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन, जापान और WHO से जुड़ी हैं। वैक्सीन को मंजूरी देने वालों में यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन, यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी, यूकेएमएचआरए, पीएमडीए जापान और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन शामिल हैं।

जिन वैक्सीन को सरकार ने मंजूरी दी है, उन्हें अगले 7 दिनों तक 100 मरीजों पर परखा जाएगा। उसके बाद देश के टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल कर लिया जाएगा। सरकार का दावा है कि इस फैसले से भारत में वैक्सीन इंपोर्ट करने और टीकाकरण कार्यक्रम में तेजी लाने में मदद मिलेगी।

सरकार इससे पहले रूस की स्पुतिनक-V को भी देश में इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे चुकी है। भारत के कोरोना टीकाकरण अभियान में शामिल होने वाली तीसरी वैक्सीन बन गई है। इस बीच, रशियन डायरेक्ट इंवेस्टमेंट फंड (RDIF) ने कहा कि भारत दुनिया का 60वां देश है, जिसने स्पुतनिक-V के इमरजेंसी यूज को मंजूरी दी है।

Share This