COVID-19- काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भ गृह में प्रवेश पर रोक

वाराणसी- काशी में कोरोना ने अपनी रफ्तार पकड़ी है.पिछली बार की अपेक्षा इस बार ज्यादा मामले सामने आ रहे है इसी वजह है कि बीते साल की तरह इस बार भी धीरे-धीरे मंदिरों और मठों पर भी इसका असर पड़ना शुरू हो गया है.

कोरोना के बढ़ते मामलो को देखते हुए काशी विश्वनाथ मंदिर में के गर्भ गृह में प्रवेश पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है. यानी न तो आप गर्भगृह के अंदर जा पाएंगे और न ही शिवलिंग को स्पर्श कर पाएंगे. मंदिर प्रशासन की तरफ से गर्भगृह के बाहर ही अरघा लगा दिया गया है, जहां से आपका जल बाबा को अर्पित हो जाएगा. सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक सिर्फ झांकी दर्शन होगा. शिवलिंग का स्पर्श प्रतिबंधित रहेगा. तड़के होने वाली मंगला आरती में भी भक्तों के प्रवेश पर रोक लग गई है. मंगला आरती के टिकट की बुकिंग अगले आदेश तक बंद कर दी गई है. बता दें कि हर रोज सैकड़ों भक्त बाबा दरबार पहुंचते हैं और दर्शन करते हैं. भक्तों की चाह सबसे ज्यादा मंगला आरती को लेकर होती है.

वहीं विश्वनाथ मंदिर के अलावा संकट मोचन मंदिर में भी कोरोना के बढ़ते आंकड़ों का असर पड़ा है. यहां भी प्रसाद के रूप में मिलने वाला चरणामृत अब नहीं मिलेगा. यही नहीं, यहां चढ़ने वाली फूल-मालाओं को भी अलग से निर्देश जारी किए गए हैं. संकट मोचन में माला फूल टोकरी में रखना होगा जो कि हर 4 घंटे में हनुमानजी को अर्पित होंगे. संकट मोचन में सुबह और रात की आरती में सिर्फ मंदिर के लोग ही शामिल होंगे.

Share This