यूपी सरकार ऑक्सीजन लेने बोकारो भेज रही है ट्रैन

लखनऊ- कोरोना संकट से निपटने के लिए सबसे ज्यादा अगर किसी की जरुरत है तो वो है ऑक्सीजन,इसके लिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ऑक्सीजन लेने के लिए विशेष ट्रैन भेज रही है,लो फ्लोर रैक पर खाली ऑक्सीजन टैंकर को लोड कर रेल द्वारा इन्हे बोकारो भेजा जायेगा जश्स से पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध हो सकेगी। रेलवे रात 10 बजे पहला रैक बोकारो भेजेगा। एक रैक में सात ऑक्सीजन टैंकर होंगे। लखनऊ से बोकारो की 805 किलोमीटर की दूरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस का खाली रैक 16 घंटे में पूरी करेगा।

लखनऊ सहित प्रदेश के बड़े शहरों में बढ़ रहे ऑक्सीजन के संकट को देखते हुए राज्य सरकार ने झारखंड के बोकारो व जमशेदपुर और उड़ीसा के राउरकेला से मेडिकल ऑक्सीजन मंगाने की तैयारी की है। रेलवे ने ऑक्सीजन टैंकर के लिए सेना के पंजाब स्थित खंदारी कला, भटिंडा और यूपी के बबीना बेस से बीबीसीएम और एनबीडब्लूटी रैक को मंगवाया है। पहला रैक लखनऊ पहुंचा। जिसमें राज्य सरकार की ओर से आसपास के जिलों से खाली ऑक्सीजन टैंकरों को लाकर उनको चारबाग़ स्टेशन के कैब वे से सटी साइडिंग पर लोड किया गया।

अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी और डीआरएम संजय त्रिपाठी सहित कई आला अधिकारी भी यहां मौजूद रहे। डीआरएम से बताया कि हर एक रैक में कम से कम सात ऑक्सीजन टैंकर लोड कर भेजे जाएंगे। हालांकि टैंकर की संख्या बढ़ने से रैक में इनकी संख्या भी बढ़ाकर आठ से 10 की जा सकती है। अभी तीन और रैक सेना से मांगे गए हैं। जो कि जल्द लखनऊ आ जाएंगे। हम पहला ऑक्सीजन एक्सप्रेस का रैक रात 10 बजे बोकारो को रवाना करेंगे। इनको रवाना करने से पहले लखनऊ से उतरेटिया तक ट्रायल किया जा रहा है।

जिससे उनको ले जाते समय कोई दिक्कत न हो। हम उम्मीद करते है कि बोकारो से लखनऊ आने में सड़क मार्ग से जो 32 से 36 घंटे का समय लगता है। वह रेलवे में 16 घंटे से भी कम लगेगा। खाली टैंकर को ले जाने में अतिरिक्त सावधानी बरतनी होती है। हल्के होने हवा के दबाव और रैक के ब्रेक सिस्टम को देखते हुए गति 50 से 55 किलोमीटर प्रतिघंटा ही रखी जाएगी।

Share This